Breaking News
Home / झारखण्ड / आज रात 10.30 बजे के बाद से रांची एयरपोर्ट से नहीं उड़ेगी फ्लाइट

आज रात 10.30 बजे के बाद से रांची एयरपोर्ट से नहीं उड़ेगी फ्लाइट

Spread the love

रांची   : बिरसा मुंडा एयरपोर्ट से रात 10.30 बजे के बाद किसी भी कंपनी की फ्लाइट को उड़ान भरने की अनुमति नहीं दी जायेगी. इसे आज से यानी सोमवार से ही लागू किया जायेगा. इस संबंध में एयरपोर्ट प्रबंधन ने एयर एशिया को पत्र लिखा है. पत्र में कहा गया कि एयर एशिया की फ्लाइट प्रतिदिन विलंब से रांची आ रही है व रांची से उड़ान भर रही है. अगर विमान अपने निर्धारित समय पर रांची नहीं आती है व उड़ान नहीं भरती है, तो रात 10.30 बजे के बाद विमान को उड़ने व उतरने की अनुमति नहीं दी जायेगी. रात 10.30 बजे के बाद एयरपोर्ट को बंद कर दिया जायेगा. इसके बाद विमान नहीं उतर पायेगा.

एयरपोर्ट निदेशक अनिल विक्रम ने बताया कि इस संबंध में एयर एशिया को पत्र लिखा गया है. एयर एशिया की अंतिम फ्लाइट प्रतिदिन विलंब से रांची आती और जाती है. इस कारण एयरपोर्ट को काफी नुकसान हो रहा है. एक फ्लाइट के लिए  अतिरिक्त मैनपावर, सुरक्षा और संसाधन का प्रयोग होता है.

इस कारण एयरपोर्ट प्रबंधन ने विमान कंपनी को पत्र लिखा है. मालूम हो कि एयर एशिया की अंतिम फ्लाइट का समय दिल्ली से रांची आने का रात 9.25 बजे है, जबकि रांची से कोलकाता उड़ान भरने का समय रात 9.50 बजे है. विमान पिछले एक माह से प्रतिदिन विलंब से दिल्ली से रांची आ रही है व रांची से कोलकाता उड़ान भर रही है.

यात्रियों को होगी परेशानी : दिल्ली से विमान के विलंब से उड़ान भरने व रांची एयरपोर्ट के बंद होने से यात्रियों को काफी परेशानी होगी. सोमवार से अगर एयर एशिया का विमान दिल्ली से विलंब से उड़ान भरता है, तो विमान को कोलकाता या पटना डायवर्ट करना होगा. इस कारण यात्रियों को पूरी रात कोलकाता या पटना एयरपोर्ट पर ही ठहरना होगा.

ट्रैफिक के कारण होता है विलंब : फिलवक्त एयर एशिया का एक ही विमान प्रतिदिन चार फेरा (दिल्ली-रांची-कोलकाता) लगाता है.  विमान अगर किसी तकनीकी कारण से विलंब हो गया, तो इसकी भरपाई मुश्किल हो जाती है. खास कर दिल्ली व कोलकाता इंटरनेशनल एयरपोर्ट पर फ्लाइट की संख्या काफी अधिक है. इस कारण यहां ट्रैफिक अधिक है. ऐसे में विमान थोड़ा भी विलंब हुआ, तो आगे और लेट होता चला जाता है.

This post was written by sanjay dash.

The views expressed here belong to the author and do not necessarily reflect our views and opinions.

About sanjay dash

Check Also

अभाविप ( ABVP )

अभाविप (ABVP) में आदिवासी छात्रों के होने के राजनीतिक मायने

Spread the love202Sharesसरकार ने पारा शिक्षकों से सीधा कहा हड़ताल समाप्त किये बिना कोई बात …