Breaking News
Home / न्यूज़ पटल / स्टूडेंट कोना / Students Posts / एक शिक्षक और एमसीए के छात्रों ने रांची कॉलेज के 40 लाख रुपये बचाये, कैसे?

एक शिक्षक और एमसीए के छात्रों ने रांची कॉलेज के 40 लाख रुपये बचाये, कैसे?

Spread the love
  • 2
    Shares

रांची : रांची कॉलेज में इस सत्र से ऑनलाइन एडमिशन हो रहा है. इसकी वजह से कॉलेज के सभी काउंटर खाली हैं. इस व्यवस्था का श्रेय कॉलेज के एमसीए विभाग के छात्रों और एक फैकल्टी इंद्रनाथ साहू को जाता है. ऐसे ही  सिस्टम बनाने के लिए आइटी कंपनी लगभग 40 लाख रुपये लेती है. एमसीए विभाग की मेहनत ने इसे मुफ्त में बना दिया. 

फैकल्टी व छात्रों का ऑनलाइन एडमिशन सिस्टम : 

कॉलेज के एमसीए विभाग के  फैकल्टी इंद्रनाथ साहू और छात्रों की टीम ने मिलकर अपने कॉलेज के लिए ऑनलाइन एडमिशन सिस्टम बनाया है. इस सिस्टम में सबसे पहले विद्यार्थी अपना रजिस्ट्रेशन कराते हैं. इसके बाद उन्हे एक रजिस्ट्रेशन नंबर मिलता है. इस नंबर के माध्यम से संबंधित विभाग में विद्यार्थी ऑनलाइन फीस जमा करते हैं और उसके बाद एडमिशन फॉर्म भरते हैं. विद्यार्थियों के एडमिशन का पूरा ब्योरा संबंधित विभाग में चला  जाता है.  इसके बाद नंबर के आधार पर विभाग लिस्ट जारी करता है. उक्त प्रक्रिया में दस से पंद्रह मिनट का समय लगता है. 

 रांची कॉलेज में पेपरलेस व कैशलेस एडमिशन

एक ओर जहां रांची विवि अभी ऑनलाइन एडमिशन शुरू करने की तैयारी आइटी कंपनी की मदद से कर रहा है. वहीं इस सेशन में विवि में ऑफलाइन एडमिशन लिया जा रहा है. रांची कॉलेज में पूरी तरह कैशलेस और पेपरलेस एडमिशन हो रहा है. आइटी एक्सपर्ट ने बताया कि अगर यही काम किसी कंपनी से कराया जाये, तो लगभग 40 लाख रुपये का खर्च आता है. 

 फैकल्टी व विद्यार्थियों को सिस्टम तैयार करने में लगे चार माह

रांची कॉलेज में ऑनलाइन सिस्टम तैयार करने में एमसीए विभाग के फैकल्टी व छात्रों ने चार महीने कड़ी मेहनत की. अपनी पढ़ाई के साथ-साथ कॉलेज के ऑनलाइन एडमिशन सिस्टम को तैयार किया. 

About Oshtimes

Check Also

झामुमो आई.टी. सेल्स

आई.टी. सेल्स : झारखंड में सोशल-मीडिया की लडाई में झामुमो सब पर भारी

Spread the love285Sharesझारखंड में फासीवादियों ने जहाँ एक तरफ गोदी मीडिया के माध्यम से अपने …