in , , , , , ,

गिरते हुए जलस्तर को देखते हुए आज कुशल जलप्रबंधन की आवश्यकता है

मेदिनीनगर : अजीत गुप्ता : पलामू में पानी की दिक्कत विकराल रूप धारण कर रही है। प्रत्येक वर्ष जलस्तर गिरता जा रहा है। इसके लिए कुशल जल प्रबंधन की आवश्यकता है। उक्त बातें पूर्व मंत्री केएन त्रिपाठी ने कही। वे सोमवार को स्थानीय ग्रामीण बैंक के मुख्य शाखा परिसर में आयोजित नाबार्ड के जल संरक्षण अभियान कार्यक्रम के समापन समारोह में बोल रहे थे। कहा कि कहा कि पलामू का इलाका पानी के बिना विरान हो गया है। इसके लिए जल छाजनकार्यक्रम क्रियान्वित करने की जरूरत है। पानी को बहने से रोकना होगा। इस अवसर पर नाबार्ड के डीजीएम एससी गुप्ता ने कहा कि एक-एक बूंद पानी को बचाना है। इससे कृषि उत्पादकता लेनी है। कहा कि कुशल जल प्रबंध का कार्यक्रम अप्रैल माह में जल दूतों के माध्यम से पलामू के 650 पंचायतों से फीडबैक लिया जा रहा है। इसके आधार पर नाबार्ड जल प्रबंधन का कार्य करेगा। इस अवसर पर जिला कृषि पदाधिकारी सह सहकारिता पदाधिकारी एडमंड ¨मज ने कहा कि पलामू जिले के किसान फसल बीमा अवश्य कराएं। विपरित परिस्थिति में बीमा का लाभ मिलेगा। इससे किसानों को आर्थिक स्थिति से दो-चार नहीं होना पड़ेगा। उन्होंने कहा कि जून माह में 152.4 मिली मीटर की जगह मात्र 30.5 मिली मीटर वर्षा हुई है। इसी तरह जुलाई माह में 344 मिली मीटर की जगह अभी तक मात्र 155मिली मीटर बारिश हुई है। इससे अंदाजा लगाया जा सकता है कि फसल कैसी होगी। कहा कि एक बीमा कराने पर किसान मित्रों को दस रूपए प्रोत्साहन के रूप में प्रदान किया जाएगा। 200 किसानों का बीमा कराने पर 2000 रूपए मिलेंगे। कहा कि 100 प्रतिशत बीमा का लक्ष्य नहीं प्राप्त करने वाले किसान मित्रों को बर्खास्त किया जाएगा। उन्होंने किसानों को प्रधानमंत्री फसल बीमा से संबंधी अधिक जानकारी के लिए टॉलफ्री नंबर 1800118485 पर संपर्क करने की जानकारी दी। इस अवसर पर ग्रामीण बैंक के क्षेत्रीय प्रबंधक निर्मल चंद्र शुक्ला, नाबार्ड पदाधिकारी किशोर तिर्की आदि मौजूद थे।

What do you think?

Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Loading…

0

भारत की न्यायपालिका पर 400 परिवारों का ही कब्जा

आवासीय विद्यालय से छात्राओं के अपहरण का प्रयास