Breaking News
Home / न्यूज़ पटल / एडिटोरियल / आर्टिकल / गैर संक्रामक रोगों से 4 करोड़ लोगों की मौत: डब्ल्यूएचओ

गैर संक्रामक रोगों से 4 करोड़ लोगों की मौत: डब्ल्यूएचओ

Spread the love

 

 

विश्व में गैर संक्रामक बीमारियों से हर साल चार करोड़ लोगों की मौत हो जाती है। विश्व स्वास्थ्य संगठन की एक रिपोर्ट में यह बात कही गयी है। रिपोर्ट के अनुसार गैर संक्रामक बीमारियों में दिल के दौरे जैसी हृदय संबंधी बीमारियांं, श्वास रोग, दमा, मधुमेह, कैंसर आदि शामिल हैं।

 

रिपोर्ट में कहा गया है कि गैर संक्रामक बीमारियों में सबसे ज्यादा मौतें हृदय संबंधी बीमारियों से होती है और इनसे सालाना एक करोड़ 77 लाख लोगों की मौत हो जाती है। उसके बाद कैंसर से 88 लाख, सांस संबंधी बीमारियों से 39 लाख और मधुमेह से 16 लाख लोगों की मौत होती है। बीमारियों के इन चार समूहों में गैर संक्रामक बीमारियों से समय पूर्व होने वाली मौतों का प्रतिशत 80 प्रतिशत से अधिक है।

 

रिपोर्ट के महत्वपूर्ण तथ्य:

 

रिपोर्ट के अनुसार गैर संक्रामक बीमारियों से निम्न और मध्यम आय वर्ग वाले देश अधिक प्रभावित होते हैं और इन देशों में गैर संक्रामक बीमारियों से होने वाली मौत का आंकड़ा विश्व में इनसे होने वाली मौतों का तीन चौथाई यानी तीन करोड़ है। रिपोर्ट में यह भी बताया गया है कि गैर संक्रामक बीमारियों से मरने वाले लोगों में एक करोड़ 50 लाख 30 से 69 साल की उम्र के बीच के होते हैं।

 

इनमें से असामयिक मौतों में से 80 प्रतिशत से अधिक मौतें निम्न और मध्यम आय वर्ग के देशों में होती हैं। अस्वास्थ्यकर भोजन, शारीरिक निष्क्रियता, निष्क्रिय धूम्रपान या अत्यधिक शराब के कारण बच्चों, वयस्कों और बुजुर्गों में गैर संक्रामक बीमारियां होने का खतरा रहता है।

 

इन रोगों को तेजी से अनियोजित शहरीकरण, अस्वास्थ्यकर जीवनशैली के वैश्वीकरण और आबादी की उम्र बढ़ने से अधिक बल मिल रहा है। अस्वास्थ्यकर भोजन और शारीरिक व्यायाम की कमी लोगों में बढ़े हुए रक्तचाप, रक्त शर्करा बढ़ने, ऊर्ध्वाधर रक्त लिपिड और मोटापे के रूप में दिखाई दे सकते हैं।

About Oshtimes

Check Also

अम्बेडकर आवास योजना jharkhand

अम्बेडकर आवास योजना : सरकार ने विधवायों को उनके आवास से वंचित रखा

Spread the love46Sharesडॉक्टर भीम राव अंबेडकर की 125वीं जयंती के अवसर पर झारखंड की रघुबर …