Breaking News
Home / पत्रकार / अजित सोनी / झारखण्ड में लचर कानून व्यवस्था की फिर से उदाहरण मिला

झारखण्ड में लचर कानून व्यवस्था की फिर से उदाहरण मिला

Spread the love
  • 5
    Shares

गुमला में ईंट भट्ठा मालिक को गोली मार की गयी हत्या

अजित सोनी, गुमला|

गुमला शहर से 3 किमी दूर स्थित डुमरडीह के जानेमाने एकता ईट भट्टा के संचालक श्यामलाल प्रसाद की अपराधियों ने गोली मार कर हत्या कर दी. घटना शनिवार की सुबह 7:30 बजे उनके ईट भट्टा के पास की है. उन्हें तीन गोली लगी थी. घटना से नाराज आम लोग और चेंबर ऑफ़ कॉमर्स के लोगो ने गुमला के टावर चौक को जाम कर दिया है. आक्रोशित लोग अपराधियों की तत्काल गिरफ्तारी की मांग रहे है.

 

जानकारी  के मुताबिक आज अह ले सुबह अपराधियों ने एकता ईट भट्टा के पास भट्टा संचालक श्यामलाल प्रसाद को गोली मार दी. आस पास के लोगों ने खुन से लतपथ प्रसाद को  हॉस्पिटल लेकर भगे. लेकिन कटहल मोड़ के समीप 7 पाम हॉस्पिटल तक पहुंचते ही श्यामलाल ने दम तोड़ दिया अपराधी फरार हैं . पुलिस माके पर पहुच जाँच पड़ताल शुरु कर दी है.

श्यामलाल गुमला के सबसे बड़े ईंट भट्ठा व्यवसायी के साथ सुंडी समाज के संरक्षक भी थे. उनकी हत्या से गुमला में आक्रोश है. सुडी समाज के लोगों ने सुबह दस बजे टावर चौक के पास एनएच 43 जाम कर आक्रोश जताया एवं अपराधियों को पकड़ने की मांग कर रहे हैं.

 

श्यामलाल पर इससे पहले भी दो बार हमला हो चूका था, लेकिन वे खुद को बचाने में कामयाब रहे थे. यह तीसरी हमला है, जिसमे उसकी जान चली गयी. बताया जा रहा है कि हर रोज की तरह वे शनिवार की सुबह को अरमई बेहराटोली स्थित ईंट भट्ठा गए, जहां तीन अपराधियों ने उसे गोली मार भागने में कामयाब रहे।

हत्या के विरोध में दो घटे जाम रहा टावर चौक

ईट भट्टा संचालक के हत्या के विरोध में सुंडी समाज व चेंबर के लोगो ने दिन के 10 बजे से लेकर 12 बजे दिन तक शहर के मुख्य मार्ग को बंद कर दिया. चेम्बर के लोगो ने गुमला पुलिस अधीक्षक चंदन झा के नाम एसडीपीओ गुमला भूपेंदर रावत व डीएसपी इन्द्रमणि चौधरी को ज्ञापन सौपा. जिसमे अपराधियो को 48 घण्टा के अंदर गिरफ्तारी की बाते कही गईं है. ज्ञापन सौपने के बाद लोगो ने स्वत: जाम हटा दिया. गुमला पुलिस हर बारिकियो पर नजर रख रही है. अपराधियो के खिलाफ पुलिस सघन छापामारी अभियान चला रही है.

This post was written by ajit soni.

The views expressed here belong to the author and do not necessarily reflect our views and opinions.

About ajitsoni

Check Also

अभाविप ( ABVP )

अभाविप (ABVP) में आदिवासी छात्रों के होने के राजनीतिक मायने

Spread the love202Sharesसरकार ने पारा शिक्षकों से सीधा कहा हड़ताल समाप्त किये बिना कोई बात …