Breaking News
Home / न्यूज़ पटल / पत्रकारमंडल / अनुभवी पत्रकार / ड्राईवर मुसलमान नहीं हिन्दु था, नहीं नहीं ड्राईवर तो मुसलमान हीं था.. लेकिन ड्राईवर का नाम सलीम है.. मैं कहता हूं की ड्राईवर का नाम हर्ष है.!

ड्राईवर मुसलमान नहीं हिन्दु था, नहीं नहीं ड्राईवर तो मुसलमान हीं था.. लेकिन ड्राईवर का नाम सलीम है.. मैं कहता हूं की ड्राईवर का नाम हर्ष है.!

Spread the love

अमित कुमार, गुजरात|

हिन्दू- मुसलमान, सेकुलर वामपंथी सब के सब कन्फ्यूज हैं कि बस का ड्राईवर कौन है, और अभी तक कोई भी सही नहीं बता सका है कि आखिर ड्राईवर हिन्दु है की मुसलमान है.. ?

 

मेरा मानना है की ड्राईवर कोई भी हो उससे क्या फर्क पड़ता है, महत्वपूर्ण यह नहीं है की ड्राईवर हिन्दु है की मुसलमान है .. महत्वपूर्ण यह है कि बस चलाने वाले ने करीब पचास इंसानो की जिंदगी बचा ली अपनी सुझ बुझ से.. महत्वपूर्ण यह की ड्राईवर ने हिन्दु -मुसलमान का फर्क ना करते हुए लाशों का ढेर बनने से इंसानों को बचा लिया..

महत्वपूर्ण यह है की ड्राईवर ने अगर हिन्दु और मुसलमान का फर्क किया होता तो पुरी बस लाशों के ढेर में बदल गई होती.. और सबसे महत्वपूर्ण तो यह है की एक मामूली सा इंसान जो सिर्फ बस चलाता है उसने पचासों जिंदगीयों के बचा कर बहादुरी और इंसानियत दोनो का शानदार परिचय दिया है, लेकिन पुरी दुनिया चलाने वाला (इश्वरवादीयों के अनुसार) तुम्हारा इश्वर/अल्लाह सात लोंगो को भी नहीं बचा सका.. सोचो की महान कौन..?

This post was written by amit kumar.

The views expressed here belong to the author and do not necessarily reflect our views and opinions.

About amit kumar

Check Also

अभाविप ( ABVP )

अभाविप (ABVP) में आदिवासी छात्रों के होने के राजनीतिक मायने

Spread the love202Sharesसरकार ने पारा शिक्षकों से सीधा कहा हड़ताल समाप्त किये बिना कोई बात …