Breaking News
Home / न्यूज़ पटल / आधी-आबादी / पाखण्डवाद का पर्दाफाश करती उदय कुमार की कविता – ये है कैसा करवाचौथ..?
पाखण्डवाद का पर्दाफाश
पाखण्डवाद का पर्दाफाश करती उदय कुमार की कविता - ये है कैसा करवाचौथ..?

पाखण्डवाद का पर्दाफाश करती उदय कुमार की कविता – ये है कैसा करवाचौथ..?

Spread the love
  • 55
    Shares

पाखण्डवाद का पर्दाफाश करती यह कविता – ” ये है कैसा करवाचौथ..?”

यह तथ्य है कि अपने पुरखों की प्रेरणा को मुकम्मल मकाम तक पहुंचाते बाबा साहेब अंबेडकर ने भारत की महिलाओं को ब्राम्हणवाद की चंगुल से मुक्त कराया। उठने , पढ़ने-लिखने, नौकरी करने, अपनी बात रखने , प्रसव के दौरान विशेष सुविधाएं, सिर्फ इतना ही नही आज महिलाएं पुरुषो के साथ कंधे से कंधा मिलाकर चल रही हैं तो ये सारे अधिकार बाबा साहेब डॉ भीम राव अम्बेडकर ने ही दिलाये हैं। मगर अफसोस आज की महिलाएं माता सावित्री बाई फुले, फ़ातिमा शेख तथा बाबा साहेब अंबेडकर जैसों महान सोच तथा संघर्ष को नजरअंदाज कर रही हैं।

समता, स्वतंत्रता, न्याय, बंधुता के रास्ते चलकर अपना दीपक स्वयं बनो। बाबा साहेब ने हमे तीन मूलमंत्र दिए हैं- शिक्षित हो, संगठित हो, और संघर्ष करो। अतः अपने महापुरुषो को पहचानो! पहचानों की तुम्हें मनुस्मृति केंद्रित ब्राह्मणवादी चंगुल से आजाद किसने कराया? क्या तुम भूल गई जब तुमको सती प्रथा के नाम पर जिंदा जलाया जाता था?

शोषण तथा पाखण्डवाद की इस कड़ी में करवाचौथ का स्थान प्रमुख है। करवाचौथ जैसे आडम्बर तथा पाखण्डवाद का पर्दाफाश करती उदय कुमार की कविता – “ये है कैसा करवाचौथ..?”

आइये इस पाखण्डवाद को समझे…

ये है कैसा करवाचौथ…???
ये है कैसा करवाचौथ…???

पति के हाथों पिटती जाए…
कोख़ में अजन्मी मारी जाए…
फिर भी बेकार की उम्मीदों में…
नारी तू क्यूँ है मदहोश…???

बेमतलब है ये करवाचौथ…
ये है कैसा करवाचौथ..????

नारी अब ना कर तू करवाचौथ…
ये है कैसा करवाचौथ…???

नारी तुझे अपनीं बातें कहना है…
अब ना यूँ चुप रहना है…
छोड़ ढोना कुरीति-पाखण्ड…
अब ना कर तू कोई संकोच…।।

छोड़ दे दोहरे मापदंड का करवाचौथ…
ये है कैसा करवाचौथ…???

पंचशील पथ का जीवनसाथी हो…
नारी हो साथी के माथे का तिलक…
जो पंचशील की राह नहीं…तो…
किस बात का करवाचौथ…???

बंद करो यह करवा चौथ….
बोलो  !  कैसा करवाचौथ…???
नहीं चाहिए खोखला करवाचौथ…।।

मेंहदी-चूड़ी-बिछुआ-कंगन के…
साज-श्रृंगार में…सजी हुई
ना गवां तू अपना जीवन…
साथी संग कर तू बुद्ध को नमन…।।

ऐसा सजीला हो करवाचौथ…
हाँ; ऐसा ही हो करवाचौथ…।।

माफ़ करना मेरे जीवनसाथी…
हैं हम-तुम दोनों “दीया-बाती”.
पर न करना तुम मेरे लिये…
अब तो कोई व्रत-प्रदोष…।।

छोड़ दो अब करवाचौथ…
मत करना तुम  करवाचौथ…।।

अब समझो मेरे जीवनसाथी…
पथरीले रास्ते पर तेरे संग…
जीवन भर तेरे साथ चलूंगा..
धूप में ठंढी हवा बनूँगा  …।।

पर;अब…मत करना…मत करना…
आडम्बरयुक्त ये करवाचौथ…।।

तेरे राहों के काँटों को…
अपनीं पलकों से चुन लूंगा…
पंचशील पथ पर तेरे संग चलूंगा…
मानवता की ख़ातिर मैं खुद को अर्पण कर दूँगा…।

पर;अब…मत करना…मत करना…
आडम्बरयुक्त ये करवाचौथ…।।

– रचनाकार उदय कुमार गौतम

About Oshtimes

Check Also

सुदेश महतो

सुदेश महतो सरकार में रहकर भी सीएनटी/एसपीटी के संशोधन को रोकने में नाकाम

Spread the love6Sharesसिल्ली और गोमिया को लेकर सत्ताधारी दल भाजपा और आजसू में टकराव तय …