in , , , , ,

फोकस एरिया में सखी मंडल को दें पी डी एस दुकान का लाइसेंस- मुख्य सचिव, राजबाला वर्मा

रांची : टीम PRD : नक्सल प्रभावित फोकस ऐरिया में सखी मंडलों को मिले पी डी एस दुकान। यह बात मुख्य सचिव श्रीमती राजबाला वर्मा ने खाद्य एवं आपूर्ति विभाग की समीक्षा करते हुए कही। गांवों के विकास हेतु सबसे अधिक संवेदनशील महिलाएं होती हैं। मुख्यमंत्री के इस विजन को साकार करने हेतु हुए महिलाओं के सखी मंडल को ही जन वितरण की दुकान दिए जाएं। फोकस एरिया में अनाज की आपूर्ति हर हाल में शत-प्रतिशत होनी चाहिए। कोताही बरतने वाले अधिकारी  दंडित होंगे।

मुख्य सचिव श्रीमती राजबाला वर्मा ने निदेश दिया कि राज्य के सभी खाद्यान्न का उठाव समय पर सुनिश्चित किया जाय ताकि लाभुको को राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा के तहत अनाज का वितरण समय पर किया जा सके। उन्होंने कहा कि जुलाई माह में अनाज का उठाव शत-प्रतिशत करें तथा अगले माह का खाद्यान्न का उठाव 15 अगस्त तक पूर्ण करलें साथ ही गोदाम से संबंधित योजना तैयार की जाय। वे आज खाद्य, सार्वजनिक वितरण एवं उपभोक्ता मामले विभाग की समीक्षा बैठक में वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से सभी जिला आपूर्ति पदाधिकारी को निदेश दे रही थीं।

 प्रधानमंत्री उज्वला योजना की समीक्षा करते हुए मुख्य सचिव ने निदेश दिया कि लाभुकों को योजना के माध्यम से दिये गये गैस कनेक्शन का उपयोग हो रहा है या नहीं इसकी समीक्षा करें। साथ ही गैस एजेंसियों के साथ समन्वय कर ग्रामीण क्षेत्रों में गैस डिलेवरी प्वाइंट सुनिश्चित किये जायें तथा मासिक आपूर्ति प्लान बनायें।  उन्होंने कहा कि गैस वितरकों से डाटा प्राप्त कर इस बात की समीक्षा की जाय कि कितने लाभुकों ने प्रथम एवं द्वितीय बार गैस रिफिलिंग करवायी है तथा कितना उपयोग हो रहा है। बैठक में कारोबार में घरेलू गैस का उपयोग न हो इस हेतु विशेष अभियान चलाने का निदेश दिया गया।  मुख्य सचिव ने धान अधिप्राप्ति के संबंध में निदेश दिया कि जिन किसानों से धान का क्रय किया गया है, उसके भुगतान हेतु बिलों को जांचोपरांत भुगतान सुनिश्चित किया जाय।

बैठक में मुख्य रूप से सचिव खाद्य, सार्वजनिक वितरण एवं उपभोक्ता मामले विभाग श्री विनय कुमार चौबे सहित कई पदाधिकारी उपस्थित थे।

What do you think?

Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Loading…

0

माओवादियों ने पोस्टरबाजी की, ग्रामीण सशंकित

पिछले ढाई वर्षों में झारखण्ड विकास के क्षेत्र में नई उंचाईयों की ओर