Breaking News
Home / करंटअफेयर्स / माइन एक्शन पर अपने अब तक के पहले संकल्प को संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद ने अपनाया

माइन एक्शन पर अपने अब तक के पहले संकल्प को संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद ने अपनाया

Spread the love

संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद ने 30 जून 2017 को माइन एक्शन पर अब तक का अपना पहला संकल्प को ही अपनाया है। इस संकल्प को लैंडमाइंस, युद्ध के विस्फोटक अवशेष और तात्कालिक विस्फोटक उपकरणों द्वारा उत्पन्न गंभीर और स्थायी खतरे को ध्यान में रखते हुए अपनाया गया है। इसके साथ ही यूएनएससी ने शांति और स्थिरता को बनाए रखने के लिए माइन एक्शन के सकारात्मक योगदान को भी पहचाना है।

संकल्प 2365 “सशस्त्र संघर्षों के सभी दलों द्वारा मानवीय कानून के उल्लंघन में इस्तेमाल किये जा रहे विस्फोटक उपकरणों के अंधाधुंध उपयोग को तुरंत रोकने और निश्चित रूप से इसे भविष्य में प्रयोग न करने के लिए कहता है।”

15 सदस्यीय दल ने इस खतरे को ध्यान में रखते हुए कि वे नागरिकों, जिसमें बच्चे भी शामिल हैं, साथ ही घर लौटने वाले शरणार्थियों, शांति सैनिकों, सहायता श्रमिकों, कानून प्रवर्तन और अन्य कर्मियों को नुकसान पहुंचा सकते हैं, सर्वसम्मति से इस संकल्प को अपनाया है।

परिषद ने अंतरराष्ट्रीय समुदाय को प्रोत्साहित किया कि देखभाल, पुनर्वास, और पीड़ितों के आर्थिक और सामाजिक पुनर्गठन और माइंस द्वारा अपंग विकलांग व्यक्तियों के लिए सहायता प्रदान करें।

इसके अलावा, महासचिव ने लैंडमाइंस, युद्ध के विस्फोटक अवशेष और उग्र विस्फोटक उपकरणों से होने वाले खतरों की जानकारी प्रदान करने और इन खतरों को कम करने के लिए प्रयास करने का अनुरोध किया है।

शांति और स्थिरता को बनाए रखने के प्रयासों के लिए माइन एक्शन के सकारात्मक योगदान को देखते हुए, नए संकल्प ने “शांति अभियानों और विशेष राजनीतिक अभियानों में नियोजन और प्रोग्रामिंग के शुरुआती चरणों के दौरान माइन एक्शन पर विचार करने के महत्व पर बल दिया” साथ ही साथ मानवीय प्रतिक्रियाओं पर भी।

About Oshtimes

Check Also

झारखंड भाजपा

झारखंड भाजपा ने स्पष्ट कर दिया कि उनका अगला मुख्यमंत्री भी गैर आदिवासी !

Spread the love400Sharesझारखंड भाजपा ने साफ़ कर दिया कि उनका अगला मुख्यमंत्री भी अर्जुन मुंडा …