Breaking News
Home / न्यूज़ पटल / एडिटोरियल / गटर में हर साल तकरीबन 22 हज़ार लोग अपनी जान गंवा देते हैं
सीवर या गटर
सीवर या गटर का नाम आते ही आप नाक सिकोड़ लेते होंगे। लेकिन हर साल हज़ारों लोग जाम सीवर की मरम्मत करने के दौरान दम घुटने से मारे जाते हैं

गटर में हर साल तकरीबन 22 हज़ार लोग अपनी जान गंवा देते हैं

Spread the love
  • 13
    Shares

गटर में अपनी जान गंवा देते हैं… आपकी गंदगी साफ करने वाले आपके ही जैसे इंसानों की जान कितनी सस्ती है! हर साल तकरीबन 22 हज़ार लोग इन गटरों में अपनी जान गंवा देते हैं। सीवर या गटर का नाम आते ही आप नाक सिकोड़ लेते होंगे। लेकिन हर साल हज़ारों लोग जाम सीवर की मरम्मत करने के दौरान दम घुटने से मारे जाते हैं। हर मौत का कारण ये वही गटर है जिसके आस पास से आप गुज़रना भी पसंद नहीं करते। सरकार और सफाई कर्मचारी आयोग सिर पर मैला ढोने की अमानवीय प्रथा पर रोक लगाने की बात करते हैं। लेकिन इन खौफनाक तस्वीरों को देखने के बाद आप समझ जाएंगे की कैसे जहरीले कचरे में उतरकर ये सफाई करने पर मजबूर हैं।  सीवर की गंदगी से उन्हें लाइलाज बिमारियां हो जाती है जो आखिर में उन्हें मौत के मुंह में ले जाती है। तहलका में प्रकाशित एक रिपोर्ट के मुताबिक हर साल सीवर में काम करते समय 22,327 लोगों की मौत हो जाती है। सिर्फ मुंबई में हर महीने 20 से ज्यादा सीवर साफ करने वालों की मौत होती है। शरीर पर बस सरसों का तेल इन सफाई कर्मचारियों को बिना किसी तकनीक या यंत्र के गटर में शरीर पर सरसों का तेल लगाकर गटर में सफाई करने उतारा जाता है। इसका नतीजा यह होता है कि समय बीते के साथ-साथ वे कई तरह की बीमारियों के शिकार हो जाते हैं। सुप्रीम कोर्ट का आदेश है कि सीवर की सफाई के लिए केवल मशीनों का ही उपयोग किया जाना। सफाई के लिए कर्मचारियों का सीवर में उतरना पूर्णरूप से प्रतिबंधित है। वर्ष 2000 में राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग ने भी सीवरों की सफाई करने वाले कर्मचारियों को सीवर सुरक्षा उपकरण देने के लिए दिल्ली जल बोर्ड को निर्देश दिए थे। लेकिन कहीं भी सफाई कर्मचारियों को ये सुविधाएं नहीं दी जाती।

सफाई कर्मचारियों की बदहाली : देश भर में 27 लाख सफाई कर्मचारी। जिसमें 7,70000 सरकारी सफाई कर्मचारी और 20 लाख सफाई कर्मचारी ठेके पर काम करते हैं। औसतन सफाईकर्मी की कमाई 3 से 5 हजार रुपये महीने । 20 लाख लोग सीवर और गटर साफ करने में लगे हैं। 90 फीसदी गटर-सीवर साफ करने वालों की मौत 60 बरस से पहले। 60 फीसदी सफाईकर्मी कॉलरा, अस्थमा, मलेरिया और कैंसर से पीड़ित। 8 सफाई कर्मचारियों की मौत हर घंटे होती है। हेल्थ और इंश्योरेंस की कोई सुविधा नहीं। 13 लाख कर्मचारी मल-मूत्र साफ करने वाले।

This post was written by sanjay dash.

The views expressed here belong to the author and do not necessarily reflect our views and opinions.

About sanjay dash

Check Also

झामुमो आई.टी. सेल्स

आई.टी. सेल्स : झारखंड में सोशल-मीडिया की लडाई में झामुमो सब पर भारी

Spread the love285Sharesझारखंड में फासीवादियों ने जहाँ एक तरफ गोदी मीडिया के माध्यम से अपने …