Breaking News
Home / पत्रकार / अजित सोनी / ​बिहार के पत्रकारों पर हुए हमले पर गुमला जेयूजे ने जताया विरोध

​बिहार के पत्रकारों पर हुए हमले पर गुमला जेयूजे ने जताया विरोध

Spread the love
  • 6
    Shares

अजित सोनी

● काला बिल्ला लगाकर किया प्रदर्शन,दोषियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की मांग तेज
● पत्रकार सुरक्षा कानून लागू करने पर जोर

गुमला –”झारखंड यूनियन ऑफ जर्नलिस्ट” की गुमला यूनिट ने कल पटना में डिप्टी सीएम तेजस्वी यादव की मौजूदगी में उनके सुरक्षा कर्मियों द्वारा मीडियाकर्मियों के साथ किए गए मारपीट के घटना की तीखी भर्त्सना करते हुए दोषियों के विरुद्ध शीघ्र कड़ी कार्रवाई की मांग की है।
जिलाध्यक्ष रणधीर निधि की अगुवाई में सम्पन्न हुई बैठक के दौरान सर्वसम्मति से उक्त घटना के खिलाफ निंदा प्रस्ताव पारित किया गया। श्री निधि ने इसे मीडियाकर्मियों की स्वायत्तता पर सीधा हमला करार देते हुए कहा कि संविधान प्रदत्त अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता पर चन्द रसूखदार लोगों की वजह से खतरा मंडरा रहा है। बिहार की राजधानी पटना में कल मीडियाकर्मियों के साथ घटित घटना के विरुद्ध बिहार-झारखण्ड समेत देशभर के कलम व कैमरा के सिपाहियों में तीखा आक्रोश है।
महासचिव दुर्जय पासवान ने इस मौके पर कहा कि तमाम चुनौतियों का डटकर मुकाबला करते हुए पत्रकार आम आवाम तक हर ताजा जानकारी पहुंचाने में लगे रहते हैं,बावजूद इसके पत्रकार सुरक्षित नहीं हैं। श्री पासवान ने राज्य व केंद्र सरकार से “पत्रकार सुरक्षा कानून” अविलम्ब लागू करने की मांग की।
जिला मुख्यालय के सूचना भवन स्थित यूनियन कार्यालय में बैठक के उपरान्त शशिभूषण गुड्डू,प्रमोद दास,अमरनाथ,रविंद्र मिश्रा,उपेश पांडे,मुकेश कुमार सोनी,नरेश जयसवाल,बसन्त गुप्ता,सुनील चौबे,इम्तियाज अली,जगन्नाथ पासवान,दीपक कुमार काजू,अंकित चौरसिया,गुड्डू चौरसिया,अजीत सोनी,रूपेश भगत,हेमन्त दुबे,संजय सिन्हा,आरिफ अख्तर हुसैन,देवगन सोनी,अमित केशरी,राहुल कश्यप,महिपाल सिंह,विक्की कुमार,दीपक गुप्ता,एजाज अहमद,नीरज कुमार,बजरंग गुप्ता,शशिकांत भगत,मनीष केशरी,संजय बड़ाईक सहित अन्य पत्रकारों ने घटना की कड़ी निंदा की और काला बिल्ला लगाकर विरोध जताया। उधर पालकोट, घाघरा, बसिया, चैनपुर, कामडारा, सिसई समेत अन्य प्रखण्डों में भी पटना की घटना को लेकर विरोध और निंदा के स्वर तेज रहे। निंदा करने वालों में सुरेश साहू,मुनेश्वर साहु, विनय कुमार केसरी, संदीप साहु, सीताराम साहु,संजय कुमार सिन्हा, प्रवीण कुमार, विकास साहू, निरंजन सिंह, शशिभूषण साहू के नाम शामिल हैं।

About Oshtimes

Check Also

अभाविप ( ABVP )

अभाविप (ABVP) में आदिवासी छात्रों के होने के राजनीतिक मायने

Spread the love202Sharesसरकार ने पारा शिक्षकों से सीधा कहा हड़ताल समाप्त किये बिना कोई बात …