Breaking News
Home / पत्रकार / अजाज़ खान / ​हज़ के बारीकियों से रूबरू हुए ज़ायरीन

​हज़ के बारीकियों से रूबरू हुए ज़ायरीन

Spread the love

36 आजमीन-ए-हज़ को दिया गया हज़ का प्रशिक्षण

बा​हज़ के बारीकियों से रूबरू हुए ज़ायरीनलूमाथ: हज कमेटी झारखण्ड के निर्देश पर वार्षिक हज़ यात्रा 2017 में लातेहार ज़िला से जाने वाले ज़ायरीनों के लिए एक दिवसीय प्रशिक्षण शिविर का आयोजन बालूमाथ स्थित मदरसा खैरुल उलूम के परिसर में किया गया। जिसमें ज़िले से वर्ष 2017 में हज़ यात्रा में जाने वाले 36 ज़ायरीनों ने हज़ के दौरान अदा किये जाने वाले अरकान के बारे में बारीकियों से झारखण्ड हज़ कमिटी के प्रशिक्षकों के द्वारा जानकारी दी गयी। तीन अलग अलग सत्र में आयोजित इस शिविर में हज़ में जाने से पूर्व की तैयारियां, यात्रा के दौरान बरती जाने वाली सावधानियां समेत हज़ की नीयत, एहराम बाँधने के तरीके, तवाफ़-ए-ज़ियारत के तरीके, सफा व मरवा के अरकान, मीना, मुज्दलफा व अराफात के अरकान तथा मदीना शरीफ में अदा किये जाने वाले अरकान के बारे में तफ्सील से ज़ायरीनों को बताया गया। लगभग डेढ़ महीने के इस यात्रा में पवित्र शहर मक्का व मदीना में ज़ायरीन को किन बातों का ध्यान रखना है , इससे संबंधित अनेक जानकारियां आजमीन-ए-हज़ को दी गई। शिविर में भाग ले रहे आजमीन-ए-हज़ को संबोधित करते हुए हज़ कमिटी के प्रशिक्षक मौलाना नसीम ने कहा कि हज़ में जाने वाले आजमीन इस्लाम के फ़र्ज़ की अदायगी के साथ साथ मुल्क का प्रतिनिधि बनकर जाते हैं इसलिए तमाम लोगों को अपना सर्वोत्तम आदर्श प्रस्तुत करने की कोशिश करनी चाहिए।अरबिया कॉलेज चतरा के प्राचार्य मुफ़्ती नज़र-ए-तौहीद ने कहा कि हज़ में जाने वाले आजमीन मुल्क की तरक़्क़ी व अम्न व शांति की दुआ करें। रांची के क़ाज़ी उज़ैर ने कहा कि हज़ यात्रा हर किसी को नसीब नहीं होता है। आपलोग भाग्यशाली हैं कि अल्लाह ने आपको दुनिया के सबसे पवित्र शहर में फ़र्ज़ की अदायगी के लिए चूना है। हाजी हाशिम ने कहा कि यात्रा के दौरान तलबिया का पढ़ना ज़रूरी है।डॉ इकबाल ने दुआ करायी।लातेहार ज़िला से इस वर्ष हज़ यात्रा में जाने वालों में मुख्य रूप से मौलाना ज़्याउल्लाह, शम्मा प्रवीण, मोबिनुल हक़, रहमान मियां, मदीना खातून, चंदवा प्रखंड के उपप्रमुख फ़िरोज़ अहमद,निजामुद्दीन, शगुफ्ता प्रवीण,फकरुद्दीन मियां, कुरैशा खातून, मुबारक हुसैन, मैमून निशा, एकराम हुसैन, ज़मीलुर रहमान, रूबी खातून, मुशा कुरैशी, मोहम्मद सलीम हैं। शिविर को सफल बनाने में कमिटी के जिला प्रभारी हाजी उमर अली, मौलाना शाहिद, हाजी तौकीर अहमद, कमरुल आरफी, मोहम्मद नईम की भूमिका सराहनीय रही। शिविर के समापन पर आजमीन-ए-हज़ को सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र बालूमाथ के द्वारा मेंजाइटिस के टीके व पोलियो के ड्रोप्प पिलाये गए।

About Oshtimes

Check Also

झारखंड भाजपा

झारखंड भाजपा ने स्पष्ट कर दिया कि उनका अगला मुख्यमंत्री भी गैर आदिवासी !

Spread the love402Sharesझारखंड भाजपा ने साफ़ कर दिया कि उनका अगला मुख्यमंत्री भी अर्जुन मुंडा …