Breaking News
Home / संजीत कुमार

संजीत कुमार

शायद अब हमारी बारी है

मेला है, देखो मेला है भूखों का लगा ये मेला है क्या पार्टी, क्या झंडा कोई मंत्री आया है, फिर से वादे करने, झूठे सपने दिखाने, बातों में उलझाने, सुना है, ये भी गरीब था, पर क्या मेरे पेट की आग बुझा पायेगा ? मेरे बाप दादा भूख से मर …

Read More »