Breaking News
Home / Tag Archives: author

Tag Archives: author

 author of oshtimes

An author is narrowly defined as the originator of any written work and can thus also be described as a writer (with any distinction primarily being an implication that an is a writer of one or more major works, such as books or plays). More broadly defined, an author is “the person who originated or gave existence to anything” and whose authorship determines responsibility for what was created.[1] The more specific phrase published author refers to an author (especially but not necessarily of books) whose work has been independently accepted for publication by a reputable publisher [according to whom?], versus a self-publishing author or an unpublished one. a case of joint authorship can be made provided some criteria are met, In the copyright laws of various jurisdictions, there is a necessity for little flexibility regarding what constitutes authorship.Holding the title of “author” over any “literary, dramatic, musical, artistic, [or] certain other intellectual works” gives rights to this person,

आज़ादी! “स्त्री क्या आज़ादी चाहती है?”

आज़ादी!

आज़ादी का क्या मतलब हो सकता है ? आज़ादी! स्त्री आज़ादी चाहती है?… बुनियादी सवाल यह नहीं है कि स्त्री क्या चाहती है, बल्कि यह है कि उसे क्या चाहना चाहिए, उसकी चाहत क्या होनी चाहिए, या वस्तुगत तौर पर स्त्री की मनुष्य्ता की शर्तें क्या हो सकती हैं। स्त्री क्या …

Read More »

GST एक विस्तृत परिचय -(Part-1)बिक्री/सप्लाई पर दो करों को एकत्र करना

GST एक विस्तृत परिचय

GST के दौरान आपको प्रारंभिक से यह देखना है कि अब आपको एक ही बिक्री /सप्लाई पर दो करों को एकत्र करना है और इस कानून का पालन यह माल एवं सेवाओं को मिलाते हुए करना है . ये दो कर निम्न प्रकार होंगे :- (1).राज्य का GST (राज्य  के खाते …

Read More »

जीएसटी : कॉरपोरेट पे करम, जनता पे सितम, की एक और औज़ार

जीएसटी कॉरपोरेट पे करम

जीएसटी : आखि़र  केन्द्र-राज्यों में सत्ताधारी सभी पार्टियों ने पूर्ण सहमति से जीएसटी की दरें और नियम तय कर 1 जुलाई से इसे लागू कर दिया। पूँजीपति वर्ग के सभी संगठनों, कॉरपोरेट नियन्त्रित मीडिया और आर्थिक विशेषज्ञों द्वारा इसे ऐतिहासिक आर्थिक सुधार बताकर इसकी भारी वाहवाही की जा रही है। …

Read More »

गोपाल सिंह भोक्ता ने हाई कोर्ट को बताया वह नहीं है 25 लाख का इनामी नक्सली

चतरा : प्रेम यादव : सिमरिया चतरा के विधायक गणेश गंझू  के भाई गोपाल सिंह भोक्ता ने झारखंड हाईकोर्ट के जस्टिस रंगन मुखोपाध्याय की अदालत में एक क्रिमिनल रिट याचिका दायर किया गया था | याचिकाकर्ता  के इस याचिका पर मंगलवार को सुनवाई किया गया। सुनवाई  के दौरान प्रार्थी के …

Read More »

पनामा पेपर्स मामला : समझने के लिए ये लेख पढ़ें  (…मानव)

पनामा पेपर्स के दस्‍तावेज

पनामा पेपर्स के दस्‍तावेज पिछले साल जब जारी हुए थे, ये लेख उस वक्‍त लिखा गया था। नवाज शरीफ के इस्तीफे ने इस मामले को फिर उछाला है लेकिन भारत के इतने सारे भ्रष्‍टाचारी इस लिस्ट में होने के बावजुद पाक साफ बचे हुए हैं। इस मामले को समझने के लिए …

Read More »

हरिशंकर परसाई की कलम से – शर्म की बात पर ताली पीटना

मैं आजकल बड़ी मुसीबत में हूं।मुझे भाषण के लिए अक्सर बुलाया जाता है। विषय यही होते हैं- देश का भविष्य, छात्र समस्या, युवा-असंतोष, भारतीय संस्कृति भी(हालांकि निमंत्रण की चिट्ठी में ‘संस्कृति’ अक्सर गलत लिखा होता है), पर मैं जानता हूं जिस देश में हिंदी-हिंसा आंदोलन भी जोरदार होता है, वहां …

Read More »

बच्चो को परिवार का महत्व समझाओ

एक पार्क मे दो बुजुर्ग बैठे बातें कर रहे थे..! पहला :– मेरी एक पोती है..! शादी के लायक है..! BA किया है..! job करती है..! कद -5″2 इंच है..! सूंदर है..! कोई लड़का नजर में हो तो बताइएगा..! दूसरा :– ” आपकी पोती को किस तरह का परिवार चाहिए..? …

Read More »

भारत के राष्ट्रपति पद का कार्यभार संभालने के अवसर पर श्री राम नाथ कोविन्द का भाषण

आदरणीय श्री प्रणब मुखर्जी जी, श्री हामिद अंसारी जी, श्री नरेन्द्र मोदी जी, श्रीमती सुमित्रा महाजन जी, न्यायमूर्ति श्री जे.एस. खेहर जी, एक्सीलेंसीज, संसद के सम्मानित सदस्यगण, देवियो और सज्जनो, और मेरे देशवासियो, मुझे, भारत के राष्ट्रपति पद का दायित्व सौंपने के लिए मैं आप सभी का हृदय से आभार …

Read More »

बाबा साहेब डॉ० भीमराव आंबेडकर का अपमान मत करो: इं. डी. प्रकाश गौतम

बौद्ध

जैसा कि सभी जानते हैं कि बाबा साहेब डॉo भीमराव आंबेडकर विश्वरत्न है। बाबा साहेब डॉ० आंबेडकर पूरी दुनिया में अपने त्याग, समर्पण, मानवतावादी दृष्टिकोण, शोषितों के मसीहा, शिक्षा, संगठन और संघर्ष की बदौलत जाने जाते हैं। सर्वविदित है कि बाबा साहेब डॉ0 भीमराव आंबेडकर से बड़ा विद्धवान अभी तक …

Read More »

घरेलु कामगार – नयी सदी के गुलाम

1931 की जनगणना के अनुसार देश में 27 लाख घरेलू कामगार थे, अधिकाँश पुरुष| स्वतंत्रता के पश्चात् साहबी कम हुई, जमींदारों की बेगार बंद हुई और विस्तार लेती पूँजीवादी अर्थव्यवस्था में नई सरकारी-निजी नौकरियाँ आईं तो 1971 में यह तादाद घटकर 67 हजार रह गई| उसके बाद 80 के दशक …

Read More »

पाचन शक्ति को सुदृढ़ रखें

स्वस्थ शरीर स्वस्थ दिमाग के निर्माण में सहायक होता है। स्वस्थ रहने की पहली शर्त है आपकी पाचन शक्ति का सुदृढ़ होना। भोजन के उचित पाचन के अभाव में शरीर अस्वस्थ हो जाता है, मस्तिष्क शिथिल हो जाता है और कार्यक्षमता को प्रभावित करता है। जिस प्रकार व्यायाम में अनुशासन …

Read More »

भाइयों के होते एक बहन की अस्मत कैसे लुट सकती है

रोहित ,प्रभात और चिराग कोचिंग से लौट रहे थे . प्रभात की नज़र तभी सुनसान पड़ें खाली प्लॉट में चार लड़कों से घिरी मदद के लिए पुकारती लड़की पर गयी . प्रभात ने अपना बैग कंधें से उतार कर सड़क पर फेंका और ”मेरी बहन को छोड़ दो कमीनों ” …

Read More »

माँ-बाप

देशी घी की खुशबू धीरेधीरे पूरे घर में फैल गई. पूर्णिमा पसीने को पोंछते हुए बैठक में आ कर बैठ गई। ‘‘क्या बात है पूर्णि, बहुत बढि़या-बढि़या पकवान बना रही हो। काम खत्म हो गया है या कुछ और बनाने वाली हो?’’ ‘‘सब खत्म हुआ समझो, थोड़ी सी कचौड़ी और …

Read More »

उसकी जुबान पर सिर्फ रोटी लिखा है

न खाने पर लिखा है…न पानी पर लिखा है… न हवा पर लिखा है….न कफ़न पर लिखा है… तू हिन्दू है…या मुसलमान है….जाके किसी भूखे प्यासे से पूछ ! तेरा धर्म क्या है…? उसकी जुबान पर सिर्फ रोटी लिखा है….। This post was written by sanjay dash. The views expressed here …

Read More »

चाइनीज सामान के बहिष्कार के पीछे छिपी हुई तुच्छ  राजनीतिक मंशा- सूरज कुमार बौद्ध

चीनी सामान का बहिष्कार करो, चीनी झालर का बहिष्कार करो, मिट्टी वाले दिया जलाओ, स्वदेशी अपनाओ विदेशी भगाओ……. आदि। पिछले कुछ सालों से इस तरह की राजनीति खूब चमकाई जा रही है। जैसे दीपावली आती है तो कुछ चीनी झालर का विरोध करने लगेंगे, होली के आते ही चीनी रंगों …

Read More »

शायद अब हमारी बारी है

मेला है, देखो मेला है भूखों का लगा ये मेला है क्या पार्टी, क्या झंडा कोई मंत्री आया है, फिर से वादे करने, झूठे सपने दिखाने, बातों में उलझाने, सुना है, ये भी गरीब था, पर क्या मेरे पेट की आग बुझा पायेगा ? मेरे बाप दादा भूख से मर …

Read More »

“मैं हूँ नेता “

पहले कीमतें मैंने बढाई फिर मैंने कहा मेरे पास जादू की छड़ी नहीं है भाई जो मैंने यूँ घुमाई और खत्म हो जाएगी महंगाई मैं हूँ नेता , कुछ नही देता बस लेता ही लेता कभी मैं तुमसे नोट लेता कभी मैं तुमसे वोट लेता और बदले में लूट लेता …

Read More »

भारतीय जनता पार्टी के युवा मोर्चा ने नवाज शरीफ का पुतला फूंका

रिपोर्टर   अजित सोनी एंकर   गुमला जम्मू कश्मीर में आतंकवादी द्वारा अमरनाथ तीर्थ  यात्रियों पर हमले को लेकर भारतीय जनता पार्टी के युवा मोर्चा द्वारा टावर चौक पर पाकिस्तान के प्रधानमंत्री नवाज शरीफ का पुतला फूंका व पाकिस्तान का झंडा कभी जलाया गया कार्यकर्ता द्वारा पाकिस्तान मुर्दाबाद के नारे लगाया गया …

Read More »

दुनिया को आतंकवाद से खतरा है छाया आतंकवाद से नहीं- सूरज कुमार बौद्ध

आतंकवाद की चर्चा जोरों पर है। लोग आतंकवाद की अलग-अलग परिभाषाएं भी बना लिए हैं और कुछ लोग ऐसे भी हैं जो  आतंकवाद को अच्छा आतंकवाद और बुरा आतंकवाद के रूप में देखते हैं। हद तो तब होती है जब अपने आप को पढ़ा लिखा और  राष्ट्रभक्त बताने वाले उच्चकोटि …

Read More »

ड्राईवर मुसलमान नहीं हिन्दु था, नहीं नहीं ड्राईवर तो मुसलमान हीं था.. लेकिन ड्राईवर का नाम सलीम है.. मैं कहता हूं की ड्राईवर का नाम हर्ष है.!

अमित कुमार, गुजरात| हिन्दू- मुसलमान, सेकुलर वामपंथी सब के सब कन्फ्यूज हैं कि बस का ड्राईवर कौन है, और अभी तक कोई भी सही नहीं बता सका है कि आखिर ड्राईवर हिन्दु है की मुसलमान है.. ?   मेरा मानना है की ड्राईवर कोई भी हो उससे क्या फर्क पड़ता …

Read More »