Breaking News
Home / Tag Archives: osh_article

Tag Archives: osh_article

GST एक विस्तृत परिचय -(Part-1)बिक्री/सप्लाई पर दो करों को एकत्र करना

GST एक विस्तृत परिचय

GST के दौरान आपको प्रारंभिक से यह देखना है कि अब आपको एक ही बिक्री /सप्लाई पर दो करों को एकत्र करना है और इस कानून का पालन यह माल एवं सेवाओं को मिलाते हुए करना है . ये दो कर निम्न प्रकार होंगे :- (1).राज्य का GST (राज्य  के खाते …

Read More »

जानिए IPC धारा-302 के बारे में

आईपीसी की धारा 302 कई मायनों में काफी महत्वपूर्ण है। कत्ल के आरोपियों पर धारा 302 लगाई जाती है। अगर किसी पर कत्ल का दोष साबित हो जाता है, तो उसे उम्रकैद या फांसी की सजा और जुर्माना हो सकता है। कत्ल के मामलों में खासतौर पर कत्ल के इरादे …

Read More »

बच्चो को परिवार का महत्व समझाओ

एक पार्क मे दो बुजुर्ग बैठे बातें कर रहे थे..! पहला :– मेरी एक पोती है..! शादी के लायक है..! BA किया है..! job करती है..! कद -5″2 इंच है..! सूंदर है..! कोई लड़का नजर में हो तो बताइएगा..! दूसरा :– ” आपकी पोती को किस तरह का परिवार चाहिए..? …

Read More »

इस गांव में हर कोई है बौना !!

आपकी जानकारी के लिए बता दे कि पूरी दुनिया में सिर्फ नाम मात्र के ही बौने लोग बचे है। वैसे इस गांव के बारें में जानकर आप भी सोच रहें होंगे कि भला वहां के लोग कैसे अपना जीवन व्यतीत करते है ? इस गांव के लगभग सभी लोगो की अधिकतम …

Read More »

महर्षि अरविन्द से महामहिम कोविन्द तक गरीबों और किसानों की बात , फिर भी समस्या जस की तस !

महर्षि अरविन्द से महामहिम कोविन्द तक गरीबों और किसानों की बात , फिर भी समस्या जस की तस ! आखिर इस मर्ज की दवा क्या है ? मित्रों ! विजय के तत्काल बाद देश के भावी महामहिम माननीय कोविन्द जी का प्रथम वक्तव्य उनकी आत्मा की आवाज थी ,जिसने कोटि …

Read More »

ब्रह्माण्ड के रहस्यों को सुलझाने की दिशा में बढ़ा इन्सान का एक और क़दम

सत्यम मनुष्य हमेशा ही ब्रह्माण्ड के रहस्यों को समझने की कोशिश करता रहा है।  हज़ारों साल पहले जब मनुष्य जंगलों में रहता था तब उसे प्रकृति के रहस्य जादू-टोने की तरह लगते थे और वह मौसम बदलने, बिजली गिरने, जीवन और मृत्यु जैसी प्राकृतिक घटनाओं को अदृश्य और जादुई शक्तियों …

Read More »

कालिख से पुते हुए सभ्य चेहरे

तीसमार खाँन एक स्पेशल मिसन की पूर्ति के लिए घोटाले द्वीप के दौरे पर निकले थे।वहाँ पहुँचने पर लोगों ने पूरे तामझाम से स्वाग़त किया। पहले दिन वे घोटाले द्वीप के बाजार निकले,देखा लोग विभिन्न प्रकार के मुखौटे बेच रहे थे।सभी मुखौटे काले थे।दुकानदार चिल्ला-चिल्ला कर बेच रहे थे,”घोटाला ले …

Read More »

भ्रष्टाचार की ताकत का नैतिकता से कोई सरोकार नहीं (पंजाब केसरी)

हमारी व्यवस्था की हास्यास्पद स्थिति देखिए। व्यवस्था में असमानता देखिए। एक दसवीं फेल बिहार का उपमुख्यमंत्री है और तमिलनाडु में शिक्षक भर्ती बोर्ड द्वारा उस छात्र को प्रवेश नहीं दिया गया जिसके 90 की बजाय 89 अंक आए थे। बिहार के उपमुख्यमंत्री बड़े गर्व से कहते हैं मुझे तो जनता …

Read More »

साम्प्रदायिकता और संस्कृति

साम्प्रदायिकता सदैव संस्कृति की दुहाई दिया करती है। उसे अपने असली रूप में निकलने में शायद लज्जा आती है, इसलिए वह उस गधे की भाँति जो सिंह की खाल ओढ़कर जंगल में जानवरों पर रोब जमाता फिरता था, संस्कृति का खोल ओढ़कर आती है। हिन्दू अपनी संस्कृति को कयामत तक …

Read More »

​भारतीय राष्ट्रपति के चुनाव की प्रक्रिया जाने  

भारत के राष्ट्रपति, भारत गणराज्य के कार्यपालक अध्यक्ष होते हैं। राष्ट्रपति के चुनाव की प्रणाली को समझने के लिए आपको इन बिंदुओं को समझना होगा: प्रक्रिया: राष्ट्रपति का चुनाव एक निर्वाचक मंडल जिसे इलेक्टोरल कॉलेज भी कहा जाता है, करता है। संविधान के अनुच्छेद 54 में इसका वर्णन है। यानी …

Read More »

पाचन शक्ति को सुदृढ़ रखें

स्वस्थ शरीर स्वस्थ दिमाग के निर्माण में सहायक होता है। स्वस्थ रहने की पहली शर्त है आपकी पाचन शक्ति का सुदृढ़ होना। भोजन के उचित पाचन के अभाव में शरीर अस्वस्थ हो जाता है, मस्तिष्क शिथिल हो जाता है और कार्यक्षमता को प्रभावित करता है। जिस प्रकार व्यायाम में अनुशासन …

Read More »

चाइनीज सामान के बहिष्कार के पीछे छिपी हुई तुच्छ  राजनीतिक मंशा- सूरज कुमार बौद्ध

चीनी सामान का बहिष्कार करो, चीनी झालर का बहिष्कार करो, मिट्टी वाले दिया जलाओ, स्वदेशी अपनाओ विदेशी भगाओ……. आदि। पिछले कुछ सालों से इस तरह की राजनीति खूब चमकाई जा रही है। जैसे दीपावली आती है तो कुछ चीनी झालर का विरोध करने लगेंगे, होली के आते ही चीनी रंगों …

Read More »

मोदी की नोटबन्दी ने छीने लाखों मज़दूरों से रोज़गार

मोदी सरकार द्वारा पिछले वर्ष अक्टूबर में घोषित की गयी नोटबन्दी से काले धन का कुछ भी नहीं बिगड़ा। न ही सरकार का ऐसा कोई इरादा ही था। काले धन और भ्रष्टाचार के ख़ात्मे की सभी बातें हवाई थीं। पिछले आठ महीनों में यह साबित हो चुका है। जब देश …

Read More »

अंधविश्वास देश व विज्ञान के लिए जहर है

समाज को अंधकार व अंधविश्वास के गर्त में ढकेलने का जिम्मेदार भी पुरोहित वर्ग ही है।कौटिल्य ने अपने अर्थशास्त्र में लिखा कि रात में मंदिर या सिद्ध स्थान पर कोई चमत्कारिक घटना खडी करके यात्रा या समाज मे लगवाकर उससे धन कमावे।वृक्ष में किसी मनुष्य को छिपाकर उससे राक्षस का …

Read More »

​हर पाँच में चार लोग अपराध साबित हुए बिना ही भारतीय जेलों के नर्क के क़ैदी हैं

इनमें 90 प्रतिशत लोग ग़रीब और वंचित समुदायों से हैं अमेन्द्र कुमार आम तौर पर जेल और क़ैदी का नाम सुनते ही दिमाग़ में क्रूर खूँखार क़िस्म के व्यक्तियों की तस्वीर उभरती है। लेकिन बिना अपराध के जेलों में बन्द ग़रीब मज़दूर लोग हमारी नज़रों से ग़ायब हो जाते हैं। …

Read More »

शरीर गलाकर, पेट काटकर जी रहे हैं मज़दूर

सरकारी आँकड़ों में दावा किया जाता है कि देश के ग़रीबों को भी पहले से बेहतर खाना मिलने लगा है। इन दावों के झूठ की पोल खोलने के लिए बहुत-से अर्थशास्त्री दूसरे आँकड़े भी पेश करते हैं जो बताते हैं कि पिछले बीस वर्षों में जबसे देश में ”विकास” का …

Read More »

घरेलू मज़दूरों के निरंकुश शोषण पर एक नज़र

राजकुमार, मजदूर बिगुल गुड़गाँव में एक मकान में रहने वाले किरायेदारों के यहाँ चोरी के शक़ में मकानमालिक ने घर पर बिजली का काम करने आये एक मज़दूर पर चोरी का इल्ज़ाम लगाकर उसके साथ मारपीट की और बाद में पुलिस बुलाकर उस मज़दूर को थाने ले गया। यह मज़दूर …

Read More »

​नोएडा में घरेलू महिला मजदूर के साथ मारपीट व मीडिया का बांग्‍लादेश विमर्श

नई-नई मध्‍यवर्गीय कालोनियों-हाउसिंग सोसायटियों के बनने के साथ ही उनमें काम करने वाली घरेलू कामगारों की भी संख्‍या बढ़ती जा रही है। आलीशान कोठियों और सर्वसुविधासंपन्‍न अपार्टमेंट्स में काम करने वाले ये घरेलू कामगार (जिनमें 90 प्रतिशत से अधिक स्त्रियां हैं) ख़ुद नर्क जैसे हालात में रहते हैं। कम वेतन, …

Read More »

भारतीय जनता पार्टी के युवा मोर्चा ने नवाज शरीफ का पुतला फूंका

रिपोर्टर   अजित सोनी एंकर   गुमला जम्मू कश्मीर में आतंकवादी द्वारा अमरनाथ तीर्थ  यात्रियों पर हमले को लेकर भारतीय जनता पार्टी के युवा मोर्चा द्वारा टावर चौक पर पाकिस्तान के प्रधानमंत्री नवाज शरीफ का पुतला फूंका व पाकिस्तान का झंडा कभी जलाया गया कार्यकर्ता द्वारा पाकिस्तान मुर्दाबाद के नारे लगाया गया …

Read More »

दुनिया को आतंकवाद से खतरा है छाया आतंकवाद से नहीं- सूरज कुमार बौद्ध

आतंकवाद की चर्चा जोरों पर है। लोग आतंकवाद की अलग-अलग परिभाषाएं भी बना लिए हैं और कुछ लोग ऐसे भी हैं जो  आतंकवाद को अच्छा आतंकवाद और बुरा आतंकवाद के रूप में देखते हैं। हद तो तब होती है जब अपने आप को पढ़ा लिखा और  राष्ट्रभक्त बताने वाले उच्चकोटि …

Read More »